शारीरिक शिक्षा एवं उसका महत्ब IMPORTANT OF PHYSICAL EDUCATION

शारीरिक  शिक्षा   एवं  उसका  महत्ब   IMPORTANT OF PHYSICAL EDUCATION

PHYSICAL EDUCATION

दोस्तों  आज  के  इस  लेख  में   मैं   शारीरिक  शिक्षा  एवं  उसका  क्या  महत्ब  है  इसके  ऊपर  आज  मै  अपना  बिचार बयक्त  कर  रहा  हूँ   आज  शारीरिक  शिक्षा  एक बिषय  के  रूप  हर  स्कूल  एवम  कॉलेजों  में  पढ़ाया  जा  रहा है  ताकी  बच्चे  अपने  स्वास्थ  के  प्रति  जागरूक  हो  सके और  अपने  स्वास्थ  को  सुधार  सके  क्योंकि  एक  कहाबत  है की  स्वस्थ  शरीर  मे  ही  स्वस्थ  मस्तिष्क का  निवास  होता  है इस  तरह  हम  कह  सकते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  के  बिना  हम  किसी  बयक्ति  के  सम्पूर्ण  विकास  की  कामना  नहीं  कर  सकते  है

तो  चलिए  जानते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  एवं  उसका  क्या  महत्ब  है

तो  दोस्तों  Tips Duniya  के  वेबसाइट  में  आपका  स्वागत  है  आज  मै   शारीरिक  शिक्षा  का  क्या  महत्ब  है  इसके  बारे  में  चर्चा  करेंगे  लेकिन  शारीरिक  शिक्षा  के  महत्ब  को  समझने  से  पहले  हमलोग  को  यह  जानना  जरुरी  है  की  शारीरिक  शिक्षा  क्या  है  एवं इसका  उदेश्य  क्या  है और  यह  हमलोग  के  लिए  क्यों  जरुरी  है

शारीरिक  शिक्षा  क्या हैं     (What is  physical  Education )

शारीरिक  शिक्षा  का  मतलब  होता  है  शारीरिक  गतिबिधियों  के  द्वारा  दी  जाने  बाली  शिक्षा  को  हम  शारीरिक  शिक्षा  कहते  है  बिभिन्य  शिक्षा  शास्त्री  ने  शारीरिक  शिक्षा  की  परिभाषा  अलग  अलग  ढंग  से  दिए  है  जैसे   Rosalind cassidy  के  अनुसार शारीरिक  क्रियाओं  पर  केंद्रित  अनुभवों  द्वारा  जो  परिबर्तन  मानब  में  आते  है  वे  ही  शारीरिक  शिक्षा  कहलाते  है  इस  तरह  हम  कह  सकते  है  की  शारीरिक क्रियाओं   के  द्वारा  जो  हम  शिक्षा  ग्रहण  करते  है  शारीरिक  शिक्षा  कहते  है  शारीरिक  शिक्षा  के अन्तर्गत  खेलकूद  बय्याम  योग  आदि  क्रियाएँ  शामिल  है

यदि  बच्चे  को  आगे  बढ़ना  है  तो  उसको  अपने  जीवन  में  खेलकूद  बय्याम  आदि  को  स्थान  देना  होगा  अब  सबाल  उठता  है  की  शारीरिक  शिक्षा  क्यों  जरुरी  है  तो  इसको  समझने  के  लिए  हमें  शारीरिक  शिक्षा  के  लक्ष्य  और  उद्देश्य  को  समझना  होगा

तो  चलिए  जानते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  का  लक्ष्य  क्या  है

शारीरिक  शिक्षा  का  लक्ष्य  (AIM  OF PHYSICAL EDUCATION )

आज  शारीरिक  शिक्षा  शिक्षा  का  ही  एक  अंग  है  जिसका  लक्ष्य  है  प्रत्येक  बयक्ति  का  सम्पूर्ण  विकास  करना जिससे  बयक्ति  अपनी  इच्छाओं  को पूर्ति  कर  सके  तथा  अपने  और  समाज की  सेवा  कर   सके
शारीरिक  शिक्षा  का  लक्ष्य  है   बच्चे  का  चरित्र  निर्माण  तथा  उनके  अंदर अनुशासन  की  भाबना  का  विकास  करना  जिससे  बच्चे  अपने  लक्ष्य  को  आसानी  से  प्राप्त  कर  सके

शारीरिक   शिक्षा  का  जो  मेन  लक्ष्य  है

1  बच्चो  के  स्वास्थ  में  सुधार

2  बच्चो  में  चरित्र  निर्माण  करना

3 अनुशासन  की  भाबना  का  विकास  करना

4  अपने  कर्तब्य  का  बोध  कराना

शारीरिक  शिक्षा  के  उदेश्य   

ऊपर  हमलोगो  ने  जाना  की  शारीरिक  शिक्षा  के  क्या  लक्ष्य  है  परन्तु  इस  लक्ष्य  को  प्राप्त  करने  के  लिए  शारीरिक  शिक्षा  के  कुछ  उदेश्य  निर्धारित  किये गए  है  जिससे  इसके  लक्ष्य  को  प्राप्त  किया  जा  सके  अतः  शारीरिक  शिक्षा  का  जो  मेन  उदेश्य  है  की  शारीरिक  क्रियाओं  के  द्वारा  बच्चो  का   सम्पूर्ण  विकास  करना

तो  चलिए  जानते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  के  क्या  उद्देश्य  है

1  शारीरिक  विकास

शारीरिक  विकास  के  अंतर्गत  जो  उदेश्य  है

1  शरीर  को  मजबूत  और सुडौल  बनाना

2  शरीर  के  शक्ति  में  बृद्धि  तथा  अधिक  देर  तक  कार्य  करने  की  क्षमता  बिकसित  करना

3 शरीर  की  मासपेशियो  का  तालमेल  बढ़ाना

4 शरीर  के  अंगो  को  सुचारु  रूप  से  चलाना

2  मानसिक  विकास

शारीरिक  शिक्षा  का  जो  उद्देश्य  है  की शारीरिक  क्रियाओं  के  द्वारा  बच्चो  का  मानसिक  विकास  करना  जिससे  वे  चिंता  तथा  तनाब  से  मुक्ती  मिल  सके

 3    सामाजिक  विकास

शारीरिक  शिक्षा  जो  उद्देश्य  है  की  बच्चों में  शारीरिक  गतिविधियों  के  द्वारा  उनके  अंदर  सामाजिक  गुणों  का  विकास  करना

शारीरिक  शिक्षा  क्यों  जरुरी है

अब  सबाल  आता  है  की  शारीरिक  शिक्षा  क्यों  जरुरी  है  तो  दोस्तों  आज  के  इस  बयस्त  जीवन  में  लोग  को   अपने  शरीर  के  पीछे धयान    नहीं  रहता  है  जिसके  कारण  उनका  स्वास्थ  हमेशा  ख़राब  रहता  है  इसी उद्देश्य  को  लेकर  शारीरिक  शिक्षा  को  सरकार  ने  इसे  सभी  स्कूलों  एवं  कॉलेजो  में  अनिबर्य  बिषय  के  रूप  में  इसे  शामिल  किया  ताकी  बच्चो  का  खेल  कूद  के  माध्यम  से  उनका  स्वास्थ  बना  रहे

तो  आइये  जानते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  बच्चो  के  लिए  क्यों  जरुरी  है

1   बच्चों  के  स्वास्थ  में  सुधार  हेतु

  आज  शारीरिक  शिक्षा  बच्चो  के शारीरिक  एवं  मानसिक  स्वास्थ  को  सुधारने  में  महत्ब्पूर्ण   भूमिका  निभा  रहा  है  क्योंकि   खेलकूद  एवं  योग  से  न  सिर्फ  बच्चों  का  मनोरंजन  होता  है  बल्कि  बच्चो  के  स्वास्थ  में  सुधार  भी  होता  है  क्योंकि  खेलकूद  के  माध्यम  से  बच्चों  में  एक  नई  ऊर्जा  उत्पन  होती  तथा  उनके  शरीर  में  स्फूर्ति  भी  आती  है

2    अनुशासन  की  भाबना  को  बिकसित  करने  के  लिए

शारीरिक  शिक्षा  के कार्यक्रम  के   माधयम  से  बच्चों  में  अनुशासन  की   भाबना  जागृत  होती  है  क्योंकि  खेलकूद  में  बच्चों  को  अपने  शिक्षक  एवं  कप्तान  के  आदेशों  का  पालन  करना  होता  है  जिससे  उनके   अंदर  आज्ञाकारिता  एवं  अनुशासन  की  भाबना  का  बिकास  होता  है  खेलकूद  से  बच्चों  में  बिजय  एवं  पराजय  को  स्वीकार  करने  की  क्षमता  का  विकास  होता  है

3  बच्चों  में  नैतिकता  की  भाबना  के  विकास  हेतु

शारीरिक  शिक्षा  से  बच्चो  में  नैतिकता  की  भाबना  का  विकास  होता  है  बच्चे  शारीरिक  कार्यक्रम  या  खेलकूद  के  जरिए अपने  आप  पर  नियंत्रण  रखना  सिख  जाते  है  शारीरिक  शिक्षा  के  जरिए  बच्चे  में  खेल  की  भाबना  जागृत  होती  है  खेलकूद  से  बच्चों  में  नेतृत्ब  की  भाबना  का  विकास  होता  है

4  बच्चों  के  बय्क्तित्ब  के  बिकास  हेतु

शारीरिक  शिक्षा  का  कार्यक्रम  एक  ऐसा  साधन  है  जिससे  बच्चे  की  पर्सनॉलिटी  का  विकास  किया  जाता  है   योग  एवं  खेलकूद  से  बच्चे  का  शरीर  मजबूत  एवं सुडौल  बनता  है  जिससे  उसके  अंदर  उसका  बय्क्तित्ब  का  विकास  होता  है

5  बच्चों  के  चरित्र  के निर्माण  हेतु

किसी  भी  शिक्षा  का  उदेश्य  होता  है  बच्चो  में  एक  अच्छा  चरित्र  का  निर्माण  करना  शारीरिक  शिक्षा  भी  बच्चों  के  चरित्र  निर्माण  में  अहम्  भूमिका  अदा  करता  है    शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बच्चे  में  आत्म  सयम  दुसरो  की  सहयोग  की  भावना  का  बिकास  होता  है   इस  तरह  हम  कह  सकते  है  शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  भी  बच्चों  में  चरित्र  का  निर्माण  किया  जाता  है

शारीरिक  शिक्षा  का  मह्त्ब   (IMPORTANT OF PHYSICAL EDUCATION )

आज  के  समय  में  शारीरिक  शिक्षा  का  बहुत  महत्ब  है क्योंकि  के  इस बयस्त  जीवन  में  लोग  अपने  स्वास्थ  के  प्रती  जागरूक  नहीं  है  जिसके  कारण  आज  के  इस  मशीनीकरण   युग  में  लोगो  का  स्वास्थ  प्रभाबीत  हो रहा  है  इसलिए  यदि  हम  अपने  आप  को  स्वस्थ  रखना  चाहते  है  तो  हमें  शारीरिक  शिक्षा  के  महत्ब  को  समझना  होगा

शारीरिक  शिक्षा  के  महत्ब  पर  प्रकाश  डालते  हुए  स्वामी  विवेकानन्द  जी  ने  कहा  है  की  हमें  गीता  पढ़ने  के  बजाय  हमें  फुटबॉल  के  मैदान  में  खेलना  जरुरी  है

तो  चलिए  जानते  है  की  शारीरिक  शिक्षा  का  हमारे  जीवन  में  क्या  महत्ब  है

1   शरीर  को  स्वस्थ  रखता  है

 शारीरिक  शिक्षा  के  कार्यकर्मों  के  जरिये  हम  अपने  शरीर  को  स्वस्थ  रखते  है  शारीरिक  शिक्षा के  द्वारा   हमें  शरीर  के  स्वस्थ  सम्बन्धी  जानकारी  प्राप्त  होती  है  की  हम  अपने  शरीर  को  किस  तरह  से  स्वस्थ  रख  सकते  है

2  समय  का  उचित  उपयोग  होता  है

शारीरिक  शिक्षा   के  कार्यक्रमो  के  द्वारा  हम  अपने  फालतू  समय  का  उचित  उपयोग  करना  सीखते  है  जिसमे  हमें  मनोरंजन  होने  के  साथ  साथ  हमारे  समय  का  भी  उपयोग  होता  है

3  सामाजिक  गुणों  का  विकास  होता  है

शारीरिक  शिक्षा  के  कार्यक्रमो  द्वारा  सामाजिक  गुणों  का  विकास  होता  है  बच्चों  के  अन्दर  सामाजिकता  के  गुणों  का  विकास  होता  क्योकि  बच्चे  खेलने  के  लिए  एक  जगह  से  दूसरे  जगह  जाते  है  और  नए  नए  लोगो  से  मिलते  है  और  आपस  में  मिलजुल  कर  रहते  है  इस  तरह  उनके  अन्दर  सामाजिक  गुणों  का  विकास  होता  है

4   संबेगात्मक   विकास  होता  है

शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बयक्ति  में  संबेगात्मक  विकास  होता  है  क्योंकि  खेलकूद  एवं  शारीरिक  क्रिया  के  द्वारा  बच्चो  में  तनाब   दवाब  आदि  से मुक्ति  मिलती  है  इस  तरह  खेलकूद  से  बच्चे  में  Emotional  development  होता   है

5   बच्चों   के  सहन  शक्ति  को  बढाती  है

शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बच्चों  के  अन्दर  सहन   शक्ति  का  विकास  किया   जाता  है  सहन  शक्ति  का  विकास  होने  से  बच्चे  समाज  में  अपने आप  को अच्छी  तरह  से  सामंजस्य  स्थापित  कर  पाते  है

6  अनुशासन  की  भाबना  बिकसित  होती  है

शारीरिक  शिक्षा  एवं  खेलकूद  के  द्वारा  बच्चों  के  अन्दर  अनुशासन  की भाबना  विकसित  होती  है  क्योकि  किसी  भी  क्षेत्र  में  सफलता  के  लिए  अनुशासन  का  होना  बहुत  ही  जरुरी  है  जो  खेल  के  द्वारा  ही  बच्चे  सीखते  है

शारीरिक  शिक्षा  से  सम्बंधित  कुछ महत्ब्पूर्ण  बातें

1  शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बच्चे  का  सम्पूर्ण  विकास  किया  जाता है

2  शारीरिक  शिक्षा  जन्म  से  लेकर   अंत  तक  चलने  सिखने  की   एक  प्रक्रिया है

3 बच्चे  के  स्वास्थ  को  को  बढ़ाने  के  लिए  शारीरिक  शिक्षा  एक  महत्ब्पूर्ण  साधन  है

4  शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बच्चे  के  चरित्र  का  निर्माण  किया  जाता  है

5  शारीरिक  शिक्षा  के  द्वारा  बच्चे  में  नेतृत्ब  के  गुणों  का विकास  किया  जाता  है

6  बच्चों  के   शारीरिक  मानसिक   और  भावमतक  विकास  के  लिए  शारीरिक  शिक्षा  बहुत  ही  जरुरी  है

 नोट —    अगर  आप  स्वास्थ  शिक्षा  के  बारे  में  जानकारी  प्राप्त  करना  चाहते  है  तो  निचे  दिए  गए  लिंक  पर  क्लिक  करे

https://tipsduniya.com/2020/04/blog-post_13.html

 निष्कर्ष  (Conclusion )

दोस्तों  आज  हमने  इस  लेख  में  शारीरिक  शिक्षा  एवं  उसके  महत्ब  को  बताने  की  कोशिस  की  है  अगर   इस  लेख  में  हमसे  कोई  बात  छूट  गई  हो  तो  आप  हमें कमनेन्ट  कर  बताने  की  कोशिस  करे  हम  उसको  इस  लेख  में  शामिल  कर  इसमें  सुधार  करने  की  कोशिस  करेंगे  और  अगर  यह  लेख  आपको  पसंद  आए  तो  आप  अपने  बच्चे  को  शारीरिक  शिक्षा  लेने  के  लिए  प्रेरित  करे  और  दुसरो  को  शेयर  जरूर  करें  ताकी  दूसरे  के  बच्चे  भी  इसको  पढ  कर  लाभ उठा  सके

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here